मिलावटी दूध को कैसे पहचाने ..

0
731

हाल ही में FSSAI के सर्वे से यह बात सामने आई है कि साउथ इंडिया के मुकाबले नार्थ इंडिया के जीतने भी राज्य हैं उनमें दूध में ज्यादा मिलावट पाई जा रही है. ये उक्त बातें FSSAI के अध्यक्ष आशीष बहुगुणा ने केंद्रीय उपभोक्ता सुरक्षा परिषद की बैठक कही है.
आशीष बहुगुणा के मुताबिक सही आकड़ों के लिए एक और सर्वे कराइ जायेगी . इसके बाद मिलावट करने वाली जगहों पर खास ध्यान दिया जाएगा. दूध की गुणवत्ता जांचने के लिए फूड रेगुलेटर ने एक किट भी तैयार की है जो 15 से 20 रुपए में मार्केट में मिलेगी. अभियान को सफल बनाने के लिए FSSAI निवेशकों से बात भी कर रही है.
आइये हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताएँगे जिन्हें अपनाकर आप असली या नकली दूध में फर्क आसानी से जान सकते हैं.
– सिंथेटिक दूध की पहचान करने के लिए उसे सूंघें. अगर साबुन जैसी गंध आ रही है तो इसका मतलब है कि दूध सिंथेटिक है जबकि असली दूध में कुछ खास गंध नहीं आती.
– असली दूध का स्वाद हल्का मीठा होता है, जबकि नकली दूध का स्वाद डिटर्जेंट और सोडा मिला होने की वजह से कड़वा लगता है.
– असली दूध स्टोर करने पर अपना रंग नहीं बदलता, जबकि नकली दूध कुछ वक्त के बाद पीला पड़ने लगता है.
– अगर असली दूध को उबालें तो इसका रंग नहीं बदलता, वहीं नकली दूध उबालने पर पीले रंग का हो जाता है.

– दूध में पानी की मिलावट की जांच करने के लिए किसी चिकनी लकड़ी या पत्थर की सतह पर दूध की एक या दो बूंद टपकाकर देखें. अगर दूध बहता हुआ नीचे की तरफ गिरे और सफेद धार सा निशान बन जाए तो दूध शुद्ध है.
– असली दूध को हाथों के बीच रगड़ने पर कोई चिकनाहट महसूस नहीं होती. वहीं, नकली दूध को अगर आप अपने हाथों के बीच रगड़ेंगे तो आपको डिटर्जेंट जैसी चिकनाहट महसूस होगी.