केजरीवाल पर लगे आरोपों की जांच करेगी ACB

0
571

दिल्ली सरकार में रहे पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा द्वारा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर लगाए गए आरोपों की जांच ACB करेगा। ज्ञात हो कि कपिल मिश्रा ने रविवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल से मिलकर इससे जुड़ी शिकायत उनके सामने रखी थी, जिसे अब दिल्ली के गवर्नर ने ACB को सौंप दिया है। उन्होंने ACB से सात दिन के अंदर इसकी रिपोर्ट देने को कहा है। इस बीच कपिल मिश्रा भी मामले की शिकायत करने के लिए ‘सबूतों’ के साथ एसीबी दफ्तर पहुंचे हैं। कपिल मिश्रा ने कहा है कि वह लाइ डिटेक्टर टेस्ट के लिए भी तैयार हैं। उधर इस मसाले पर अरविन्द केजरीवाल कुछ नहीं बोल रहे तथा उनकी चुप्पी बरकरार है।

कपिल मिश्रा ने रविवार को आरोप लगाया था कि उन्होंने केजरीवाल को मंत्री सत्येंद्र जैन से दो करोड़ रुपये कैश में लेते हुए अपनी आंखो से देखा है। तथा यह भी आरोप लगाया था कि जैन ने केजरीवाल के एक सगे रिश्तेदार के लिए 50 करोड़ की लैंड डील करवाई है। मिश्रा ने कहा है कि वह खुद इस मामले में गवाह बनने को तैयार हैं। सोमवार को एसीबी दफ्तर जाने से पहले मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि उनका, केजरीवाल का और सत्येंद्र जैन का लाइ डिटेक्टर टेस्ट करवाया जाए। कपिल ने यह भी बताया कि उन्होंने सीबीआई से मिलने के लिए वक्त मांगा है। इस दौरान कपिल अपने हाथ में एक लिफाफा लिए हुए थे जिसे केजरीवाल के खिलाफ ‘सबूत’ माना जा रहा है। रविवार को मामले का खुलासा करते समय उन्होंने दावा किया था कि उन्होंने इससे जुड़े सारे सबूत एलजी को सौंप दिए हैं।

केजरीवाल की चुप्पी नहीं टूट रही…

मामले पर अरविंद केजरीवाल की ओर से अभी तक कोई रिऐक्शन नहीं आया है। ट्विटर पर भी वह फ्रांस के नए राष्ट्रपति को तो बधाई दे रहे हैं, पर इस मामले पर बिल्कुल चुप हैं। सोमवार को अपने घर से निकलने के दौरान जब मीडिया ने केजरीवाल से इस सिलसिले में सवाल पूछने चाहे तो वह बिना कुछ कहे निकल गए। पार्टी की ओर से भी कपिल के आरोपों पर सिर्फ इतना कहा गया है कि यह आरोप जवाब देने लायक नहीं है। रविवार को उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था कि कपिल मिश्रा के आरोप इस लायक ही नहीं हैं कि उनका जवाब दिया जाए।

दिल्ली बीजेपी अध्य्क्ष ने मांगा केजरीवाल का इस्तीफा
दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने सोमवार को फिर कहा कि केजरीवाल को अब सीएम पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने कहा कि केजरीवाल को सत्ता का मोह छोड़ते हुए जांच पूरी होने तक अपना पद छोड़ देना चाहिए।