क्यो चढ़ाते है सिंदूर हनुमान जी को.. क्या है इस से जुड़ी कहानी

0
961

हिंदू धर्म के देवताओं में प्रमुख हनुमानजी बल, बुद्धि, विद्या और पराक्रम के देवता हैं। वे जिस पर प्रसन्न हो जाते हैं, उसके लिए सफलता के द्वार खुल जाते हैं। हनुमानजी की कई बातों का गूढ़ रहस्य है और जब उन पर मनन किया जाए तो उसका वैज्ञानिक आधार भी मिलता है। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक सिंदूर और चोला चढ़ाने से मूर्ति का स्पर्श होता है, इससे सकारात्मक ऊर्जा मिलती है। निश्चित रूप से इसका असर मनुष्य की तेजस्विता पर पड़ता है और शरीर को लाभ मिलता है।

क्या है सिंदूर लगाने की कहानी?…

एक बार जब हनुमानजी को भूख लगी तो वे भोजन के लिए सीताजी के पास गए। सीताजी की मांग में सिंदूर लगा देखकर वे चकित हुए और उनसे पूछा, मां, आपने ये क्या लगाया है? तब सीताजी ने उनसे कहा कि यह सिंदूर है, जो सौभाग्यवती महिलाएं अपने स्वामी की लंबी उम्र, प्रसन्नता और कुशलता के लिए लगाती हैं। फिर हनुमानजी ने सोचा कि अगर चुटकी भर सिंदूर लगाने से स्वामी की प्रसन्नता प्राप्त होती है तो पूरे शरीर में सिंदूर लगाने से तो वे अमर हो जाएंगे, सदा प्रसन्न रहेंगे।

फिर हनुमान जी ने पूरे बदन पर सिंदूर लगा लिया और भगवान श्रीराम की सभा में गए। हनुमान का यह रूप देखकर सभी सभासद हंसे। भगवान श्रीराम भी स्वयं के प्रति उनके प्रेम को देखकर अत्यंत प्रसन्न हुए। उन्होंने हनुमानजी को यह वरदान दिया कि जो भी मनुष्य मंगलवार और शनिवार को उन्हें घी के साथ सिंदूर अर्पित करेगा, उस पर स्वयं श्रीराम भी कृपा करेंगे और उसके बिगड़े काम बन जाएंगे।