कालेधन मामले में पाकिस्तान SC ने नवाज़ शरीफ को पीएम पद से हटाया

0
340

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने भ्रष्टाचार के केस में प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ को दोषी करार दिया है. इसके साथ ही उन्हें प्रधानमंत्री के पद से हटा दिया है. सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच ने नवाज शरीफ को पनामा केस में दोषी करार दिया. पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने नवाज़ शरीफ के अलावा वित्त मंत्री इस्हाक डार, बेटी मरियम नवाज़, हसन नवाज़, हुसैन नवाज़ और कैप्टन सफद को जांच में शामिल करने और उनके खिलाफ रेफरेंस भेजने का आदेश दिया है.

सुप्रीम कोर्ट की ओर से सुबह 11:30 केस की शुरुआई हुई और 12.30 बजे के करीब उनके खिलाफ फैसला सुनाया गया. शरीफ के परिवार विदेशों में कालाधन अर्जित करने का दोष साबित हुआ है. नवाज़ के कालेधन के खिलाफ संयुक्त जांच दल (जेआईटी) ने जांच की थी और अपनी रिपोर्ट में नवाज़ शरीफ के परिवार के खिलाफ आरोप को सही पाया था.

नवाज़ के भाई बच निकले…

हालांकि, नवाज़ के भाई शाहबाज़ शरीफ़ इस सारे मामले में साफ़ तौर पर बच निकले हैं. हालांकि इस बारे में खुलकर बात तो नहीं हो रही लेकिन इस तथ्य की दबी गूंज इस्लामाबाद के प्राइम मिनिस्टर हाउस में आजकल अक्सर सुनाई दे जाती है.

इस बात से आम लोगों को शायद हैरानी हो लेकिन मुस्लिम लीग में ये आम धारणा है कि शाहबाज़ शरीफ़ का पाकिस्तानी सत्तातंत्र के साथ अपने बड़े भाई की तुलना में बेहतर संबंध है. मुस्लिम लीग के नेताओं में ये बात चर्चा-ए-आम है कि परवेज़ मुशर्रफ़ ने शाहबाज़ शरीफ़ को प्रधानमंत्री बनाने की पेशकश की थी, उसके बाद राहील शरीफ़ से भी उनकी ‘बातचीत’ चलती रही और अब जनरल क़मर जावेद बाजवा भी उनके सीधे संपर्क में हैं.