PM नरेंद्र मोदी ने मनिहारी-साहेबगंज के बीच गंगा के पुल और वाटर-वे टर्मिनल का रखा आधारशिला

0
472

प्रधानमन्त्री मोदी ने मनिहारी-साहेबगंज के बीच गंगा पर  पुल और वाटर-वे टर्मिनल की आधारशिला  रखी। इस मौके पर उन्होंने कहा कि 2200 करोड़ की लागत से दोनो राज्यों बिहार-झारखंड को जोड़ने वाला पूल  गंगा पर बनेगा। जिससे की  संथाल के इलाके में रहने वाले लोगों की परेशानियां दूर होगी । मैं दोनों राज्यों के लोगों को बधाई देता हूं। गडकरी जी एक ऐसे मंत्री हैं, जो तय वक्त में काम पूरा करवाने के लिए जाने जाते हैं। इससे पहले मोदी ने संथाली भाषा  में जनता का अभिवादन किया।

प्रधानमन्त्री ने कहा कि ” इस प्रोजेक्ट का फायदा इस क्षेत्र के हजारों परिवारों को मिलेगा। युवाओं को रोजगार मिलेगा। इससे युवाओं के बीच स्किल डेवलपमेंट होगी। साहेबगंज से गोविंदपुर के बीच रोड बनने से संथाल इलाके के लोगों के जीवन को गति मिली है। ये सिर्फ आने-जाने का नहीं विकास का रास्ता है।”
– ” नदी को हम मां कहते हैं और वह हमें सबकुछ देती है, लेकिन एक कहावत है कि मांगे बिना मां भी खाना नहीं देती है , सालों से गंगा मां इस इलाके को जीवन देती रही है। लेकिन अब 21वी सदी में गंगा झारखंड को भी दुनिया से जोड़ देगी। मल्टी मॉडल वाटर-वे टर्मिनल प्रोजेक्ट का काम पूरा होने के बाद गंगा में जहाज चलेंगे, जो बंगाल की खाड़ी तक माल की ढुलाई करेंगे। यहां से कोयला देश और दुनिया के कई हिस्सों में पानी के रास्ते के जरिए पहुंचेगा।”

सड़कें शरीर के अंदर धमनियों के सामन है !
– PM मोदी ने कहा- “वाजपेयी जी ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की शुरुआत की थी। जैसे शरीर के अंदर धमनियां होती हैं, वैसे ही ये सड़कें आज काम कर रही हैं। इसे दूसरी सरकारों ने भी आगे बढ़ाया।”
– “हमारी सरकार ने नदियों से ट्रांसपोर्टेशन को जोड़ा। हाईवे , एयरवे , रेलवे और अब आपके सामने है वाटरवे। इसमें करोड़ों की लागत आएगी। आने वाले वक्त में अर्थशास्त्री इस पर लिखेंगे,मां गंगा ने विकास की नई भेंट हमें दी है।”
– “झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवरदास ने इस इलाके के लिए अच्छा काम किया। उन्होंने यहां दूध उत्पादन के लिए विकास का मॉडल डेवलप किया। मैं भी गुजरात से हूं, जहां का अमूल दुनिया में मशहूर है।”
– “डेयरी उद्योग में अगर झारखंड को गुजरात की मदद की जरूरत होगी तो मैं उनसे कहूंगा। झारखंड के किसान डेयरी के साथ शहद का उत्पादन कर भी कमाई कर सकते हैं।”

आइये जानते हैं की बिहार- झारखंड को क्या होगा फायदा ?
– साहेबगंज में रोड, गंगा पुल और पोर्ट बनने से इस क्षेत्र में विकास को गति मिलेगी। पुल के बनने से बिहार के अलावा पूर्वोत्तर के राज्यों से झारखंड का सीधा सम्पर्क होगा।
– इसके साथ ही हल्दिया से बनारस तक बनाए जा रहे जलमार्ग पर साहेबगंज में पोर्ट से माल ढुलाई में काफी सुविधा मिलेगी !
– पेट्रोलियम पदार्थों के ट्रांसपोर्टेशन में कम पैसा खर्च होगा। नितिन गडकरी भी कह चुके हैं कि गंगा में वाटरवे का निर्माण झारखंड के लिए गेम चेंजर साबित होगा।