नीरज सिंह मर्डर केस : अपने चचेरे भाई ने ही रची थी नीरज की हत्या की साजिश

0
804

धनबाद: पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह सहित चार लोगों की हत्या के आरोप में आज धनबाद के झरिया से भाजपा के विधायक संजीव सिंह को धनबाद पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

विधायक संजीव सिंह मृतक नीरज सिंह का चचेरा भाई भी है. विधायक आज दोपहर अपने समर्थको के साथ सरायढेला थाना पहुंचे जहां पुलिस ने विधायक को गिरफ्तार कर लिया. बिदित है 21 मार्च की शाम सरायढेला स्टील गेट पर पेशेवर शूटरों ने धनबाद के पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह की गाडी पर उनके घर से पहले कुछ ही दूरी पर ताबड़तोड़ गोलिया बरसानी शुरू कर दी थी.

इस हमले में नीरज सिंह, ड्राइवर घोल्टू महतो, बॉडी गार्ड मुन्ना तिवारी और निजी सचिव अशोक यादव की मौके पर ही मृत्यु हो गयी थी. मृतक नीरज सिंह के भाई अभिषेक सिंह ने विधायक संजीव सिंह उनके भाई मनीष सिंह, गया सिंह, महंत पांडे और पिंटू सिंह को नामजद अभियुक्त बनाते हुए केस दर्ज कराया था .

धनबाद पुलिस नामजद अभियुक्त विधायक संजीव सिंह, गया सिंह और महंत पांडे से पहले भी लम्बी पूछताछ कर उन्हें छोड़ चुकी थी .नीरज हत्या काण्ड में इसके पहले संजय सिंह, धनजी सिंह और पिंटू सिंह की गिरफ्तारी हो चुकी है. विधायक संजीव सिंह को भी पुलिस ने नाटकीय ढंग से गिरफ्तार कर लिया.

गैंगवार के लिए प्रख्यात धनबाद कोयलांचल की चर्चित नीरज हत्या काण्ड का तार रंजय हत्या काण्ड से जोड़ कर धनबाद पुलिस अनुसन्धान कर रही है . विधायक संजीव सिंह का काफी करीबी माना जाने वाला रंजय सिंह की हत्या 29 जनवरी को सरायढेला क्षेत्र में हुई थी.

धनबाद पुलिस ने आज न्यायालय से संजीव सिंह के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट लिया था. इसके बाद विधायक संजीव सिंह अपने समर्थको के साथ सरायढेला थाना पहुंचा, जहां पुलिस ने विधायक को गिरफ्तार कर लिया. इधर विधायक संजीव सिंह की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुये डीआईजी ने कहा कि विधायक की सहमति से उनका पॉलिग्राफिक टेस्ट भी कराया जा सकता है.