बीजेपी के लिए यूपी में गाय मम्मी, पूर्वोत्तर भारत में यम्मी: असदुद्दीन ओवैसी

0
813
-- Advertisements --
लखनऊ. एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने यूपी में अवैध बूचड़खानों पर हो रही कार्रवाई को लेकर बीजेपी को घेरा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी का ये पाखंड है कि यूपी में गाय मम्मी है, लेकिन नॉर्थ ईस्ट में यम्मी है। इससे पहले ओवैसी ने यूपी में बंद हो रही मीट की दुकानों का मुद्दा लोकसभा में भी उठाया था। बता दें कि बीजेपी ने नॉर्थ-ईस्ट के तीन राज्यों में अगले साल होने वाले असेंबली इलेक्शन को देखते हुए बीफ पर बैन नहीं लगाने का एलान किया है। ओवैसी ने कहा- लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट है…
– असदुद्दीन ओवैसी ने कहा- “यूपी में बूचड़खानों पर हो रही कार्रवाई से लाखों लोगों के सामने रोजगार का संकट खड़ा हो गया है। बीजेपी का पाखंड यह है कि उत्तर प्रदेश में उसके लिए गाय मम्मी है, लेकिन नॉर्थ-ईस्ट में वह यम्मी है।”
– “नॉर्थ-ईस्ट के तीन राज्यों में चुनाव होने वाले हैं। इस वजह से ये लोग वहां बीफ को इजाजत दे रहे हैं।”
– बता दें, लोकसभा में ओवैसी ने सरकार की नीतियों पर सवाल उठाते हुए पूछा था कि क्या सरकार सच में भैंस के मीट के एक्सपोर्ट को प्रमोट करना चाहती या फिर इस पर बैन लगाना चाहती है?
– यूपी में जो मौजूदा हालात हैं, उसमें भैंस के मीट की कई एक्सपोर्ट यूनिटों को बंद किया जा रहा है। इसका जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि ये कार्रवाई सिर्फ अवैध बूचड़खानों पर हो रही है।
ओवैसी समेत विपक्ष सवाल क्यों उठा रहा है?
– नॉर्थ-ईस्ट में गोहत्या पर बैन नहीं है। असम, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर में सत्ता में होने के बावजूद बीजेपी ने वहां गोहत्या पर कोई बैन नहीं लगाया है। बूचड़खानों पर भी वहां कोई कार्रवाई नहीं की गई है। अब विपक्ष इसी को लेकर सवाल खड़े कर रहा है।
– बीते दिनों नगालैंड में भाजपा के प्रमुख विसासोली लौंगु ने कहा था, “अगर हमारी पार्टी नगालैंड में सरकार बनाती है तो उत्तर प्रदेश की तरह गोहत्या पर प्रतिबंध नहीं लगाया जाएगा। यहां की सच्चाई अलग है, जिसे केंद्रीय नेतृत्व अच्छी तरह जानता है।”
– नॉर्थ-ईस्ट के तीन राज्यों मेघालय, मिजोरम और नगालैंड में अगले साल चुनाव होने हैं। नॉर्थ-ईस्ट में रहने वाले ज्यादातर लोग ईसाई धर्म को मानते हैं और वहां बीफ ज्यादा खाया जाता है।
क्या है मामला
– बीजेपी ने यूपी विधानसभा के वक्त बूचड़खानों को मुद्दा बनाया था। अमित शाह ने एलान किया था पार्टी को बहुमत मिलता है तो प्रदेश के सभी बूचड़खानों पर कार्रवाई की जाएगी।
– सरकार बनते ही राज्य में इस पर कार्रवाई जारी है। सरकार की सख्ती के बाद प्रदेश में मीट व्यापारियों ने हड़ताल भी की थी।
यूपी में400 से ज्यादा स्लॉटर हाउस
– सरकारी सूत्रों के मुताबिक, यूपी में 400 से ज्यादा अवैध स्लॉटर हाउस हैं। इनके बंद होने से यूपी में मीट से जुड़े 11 हजार करोड़ रुपए के कारोबार पर असर पड़ा है।
– स्टेट पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के मुताबिक, यूपी में 185 बूचड़खाने हैं। इनमें से 45 के पास लाइसेंस है। जबकि 140 बूचड़खाने बिना परमिशन के चल रहे हैं।
-- Advertisements --