‘पद्मावती’ 1 दिसंबर को नहीं होगी रिलीज – Viacom 18 का फैसला

0
178

मुंबई :संजय लीला भंसाली कृत फिल्म ‘पद्मावती‘ की रिलीज को ‘स्वेछा’ से स्थगित कर दिया गया है। फिल्म निर्माता और वितरक वायकॉम 18 मोशन पिक्चर्स के एक प्रवक्ता ने रविवार को यह जानकारी दी। बता दें कि देशभर में फिल्म के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन की वजह से रिलीज टाल दी गई है। फिल्म रिलीज़ की नई तारीख़ का अभी खुलासा नहीं हुआ है।

कंपनी के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा, ‘पद्मावती’ की निर्माण कंपनी वायकॉम 18 मोशन पिक्चर्स ने अपनी पूर्वनिर्धारित तारीख 1 दिसंबर, 2017 को फिल्म की रिलीज स्थगित कर दी है। फिल्म की कहानी राजपूत रानी पद्मावती को लेकर तथ्यों से छेड़छाड़ को लेकर विवादों में घिरी है। हालांकि, भंसाली इस बात से कई बार इंकार कर चुके हैं।

कुछ हिंदू समूह फिल्म की रिलीज का विरोध कर रहे हैं जबकि कुछ राजनीतिक संगठनों ने मांग की है कि गुजरात विधानसभा चुनावों के मद्देनजर इसकी रिलीज स्थगित कर दी जाएगी। निर्माताओं को केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) से अभी तक मंजूरी नहीं मिली है। सीबीएफसी का कहना है कि निर्माताओं का आवेदन ‘अधूरा’ था।

प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि ‘अपेक्षित मंजूरी’ मिलने के बाद फिल्म रिलीज की नई तारीख घोषित की जाएगी। उन्होंने कहा, “हम एक जिम्मेदार, कानून का पालन करने वाले नागरिक हैं और देश के कानून व सीबीएफसी सहित अपने सभी संस्थानों और वैधानिक निकायों का सम्मान करते हैं।” उन्होंने कहा, “हमें विश्वास है कि हमें फिल्म रिलीज करने के लिए जल्द ही अपेक्षित मंजूरी मिल जाएगी।”

सेंसर बोर्ड ने लौटा दी है फिल्म
फिल्म निर्माताओं ने सेंसर बोर्ड को सर्टिफिकेट के लिए फिल्म भेजी थी लेकिन सेंसर बोर्ड के इसे बिना देखे ही वापस कर दिया था. सेंसर बोर्ड की ओर कहा गया कि आवेदन में यह साफ नहीं किया था कि ये फिल्म कल्पना या तथ्य पर आधारित है.

चुनिंदा पत्रकारों को दिखाई फिल्म, सेंसर बोर्ड नाराज
फिल्म को लेकर चल रहे विवाद के बीच निर्माताओं ने एक स्पेशल स्क्रीनिंग की थी. इस स्क्रीनिंग में इंडिया टीवी के एडिटर इन चीफ रजत शर्मा , रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अरनब गोस्वामी और वरिष्ठ पत्रकार वेद प्रताप वैदिक समेत कुछ चुनिंदा लोगों को फिल्म दिखाई थी. इन लोगों ने फिल्म देखने के बाद कहा था कि फिल्म में कुछ भी विवादित नहीं है.

फिल्म निर्माताओं का यह पैंतरा उन पर उल्टा पड़ गया. सेंसर बोर्ड ने कुछ खास लोगों को फिल्म दिखाए जाने को लेकर नाराजगी जाहिर की. सेंसर बोर्ड के मुखिया प्रसून जोशी ने कहा, ”ये बेहद निराशाजनक है कि सेंसर बोर्ड को दिखाए बगैर या उसके प्रमाणित किए बिना ही पद्मावती फिल्म की मीडिया के लिए स्क्रीनिंग हो रही है, नेशनल चैनल्स पर उसकी समीक्षा हो रही है.”

दिल्ली में विरोध, कहा- सिनेमा घर में आग लगा देंगे
पूरे देश में पद्मावती पर महाभारत जारी है. पद्मावती को लेकर चल रहा विरोध अब राजधानी दिल्ली पहुंच गया है. आज कुछ लोगों ने निर्माण विहार स्थिति वीथ्रीएस मॉल के बाहर प्रदर्शन किया. इन लोगों का कहना था कि फिल्म को रिलीज़ नहीं होने देंगे. अगर कोई सिनेमा हॉल फिल्म चवाएगा तो उसमें आग ला देंगे.

क्या है पूरा विवाद?
फिल्म ‘पद्मावती’का राजस्थान में कड़ा विरोध हो रहा है. राजस्थान की करणी सेना ने फिल्म का विरोध करते हुए कहा है कि वे फिल्म को देश भर में रिलीज नहीं होने देंगे. करणी सेना ने फिल्म के अभिनेता रनवीर सिंह और अभिनेत्री दीपिका पादुकोन को जान से मारने तक कि धमकी दी है. दरअसल, करणी सेना का आरोप है कि रानी ‘पद्मावती’ और अलाउद्दीन खिलजी के बीच प्रेम संबंध दिखाए गए हैं. साथ ही फिल्म में कई राजस्थानी परंपराओं को भी गलत ढंग से दिखाया गया है.

वसुंधरा राजे ने केंद्र को लिखी थी चिट्ठी

इससे पहले राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया ने कल सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को चिट्ठी लिखकर आग्रह किया था कि संजय लीला भंसाली की फिल्म तबतक रिलीज न हो जब तक इसमें जरूरी बदलाव नहीं किए जाएं ताकि किसी समुदाय की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचे।